Monday

कुछ झेलिकाए

क्षणिकाए तो आपने खूब पढ़ी होंगी
आओ कुछ झेलिकाए हम सुनाते है ।
कुछ बोले तो ना सुनेंगे लोग
इसलिए जबरन  अनुराग जताते है।  - 1 )कही  कुछ बेहतर था तुममे हम से
                                                   गौर से देखा तो लगा कुछ भी नहीं ।

                                                2 )कब कहा था मुमताज़ ने शाहजहाँ से
                                                    बनाओ एक ताजमहल ऐसा
                                                   जिसमे मेरी याद तो हो मगर मै नहीं ।

                                                  3 )कल किसने देखा है जमाना कैसा होगा
                                                      यकीन खुद पर हो तो निगाहे आंसमा पर होंगी ।                                                   4 )कल रात आईना स्वपन मे आया
                                                        खुली आँख और दिल घबराया ।

1 comment:

Upasna Siag said...

jhel liya ji ye bhi ....bahut khoob