Saturday

उमंग की रोशनी

‘अनु, अब उठ जाओ, आठ बज गए हैं।’
मां की आवाज कानों में पड़ी तो अनुप्रिया तुरंत उठ बैठी। उसे याद आया आज तो उसकी ड्यूटी रामलीला मैदान में लगी है और उसे दस बजे हर हाल में पहुंचना होगा, क्‍योंकि आज धनतेरस है। खरीददारी के लिए लोगों की भीड़ इस दिन से लेकर दीपावली तक जमकर रहेगी। ऐसे में हम पुलिसवालों को अपनी तरफ से बिना किसी दिन छु‍ट्टी किए अलग अलग जगह बारह बारह घंटे ड्यूटी के लिए तैयार रहना होगा। क्‍या पुरुष और क्‍या महिला कांस्‍टेबल, सभी की खाट खड़ी रहेगी। जैसे त्‍योहार के दिन हमारे लिए बने ही न हों। हर समय खड़े रहो आम जनता की चौकसी में। लोग लोग और लोग, हर जगह लोग। उस समय जनसंख्‍या वृद्धि करने वालों कोसने का मन करता है।
यह सब उधेड़बुन में लगी अनु उठकर फ्रेश हुई और अपनी ताजी-धुली प्रेस की हुई कांस्‍टेबल की वर्दी को अजीब सी नजरों से घूरते हुए पहनने लगी। शायद सोच रही थी कि पहनूं तो मुसीबत और न पहनूं तो मुसीबत। कितना मना किया था उसके पिता ने, जब उसका कांस्‍टेबल भर्ती परीक्षा में चयन हुआ था।
कहा था – ‘अब क्‍या बैंक मैनेजर की बेटी ठूलिया की नौकरी करेगी, और नौकरियां नहीं हैं।’
मगर अनु का सपना शुरू से ही पुलिस विभाग में जाने का था। उसे लगा एक तो सरकारी नौकरी हाथ लगी है, उसे ही पिताजी कम आंककर मना कर रहे हैं। अब कहां पड़ी है सरकारी नौकरियां। लोग तो चपरासी की नौकरी तक के लिए मंत्री की सिफारिश करवाते हैं। यह तो उसने खुद की मेहनत से यह सब हासिल किया है। कितना खुश थी वह। एक साल की ट्रेनिंग से निकलकर जब वह पक्‍की हुई तो उन्‍नीस साल की उम्र का जोश देखते ही बनता था। सोचती थी फिल्‍मों की तरह अपराधियों को पकड़ेगी और जब रास्‍ते से निकलेगी तो मोहल्‍ले वालों पर रौब जमेगा। मगर जल्‍द ही सच उसके सामने आ गया। सामान्‍य सी दिखने वाली इस नौकरी ने उसे उलट स्थिति का अहसास कराया। आस पास और मोहल्‍ले वाले लोग उसे ‘ठूलिया’ कहने से ना चूकते। खासकर मोहल्‍ले के आवारा युवा। उनके इगो हर्ट होना इसकी वजह रहती। इसके बाद उसकी पूरे शहर में हर त्‍योहार या घटना दुर्घटना में लगती ड्यूटी का दौर शुरू हो गया। ऐसे में त्‍योहार तो मानो दिल में नश्‍तर चुभाते लगते।
सोचते सोचते कब साढ़े नौ बज गए उसे पता ही नहीं चला। खाने की इच्‍छा ना होते हुए भी फटाफट कुछ खाया और कुछ टिफिन में डालकर तैयार हुई। बाहर आकर ऑटो लिया और सीधे रामलीला मैदान पहुंच गई, जहां उसकी ड्यूटी लगी थी। मैदान तो बस नाम का मैदान था, चारों ओर दु‍कानों की रेलमपेल के बीच बड़ा गोल सर्किल, जहां दुकानें हर तरह की, एक ही जगह इकठ्ठी। यह शहर का मुख्‍य बाजार है। इसी के चौराहे पर आज उसकी ड्यूटी लगी है। उसका काम है लोगों पर निगाह रखना। आती जाती महिलाओं की सुरक्षा का ख्‍याल रखना।
आज बाजार में बहुत चहल पहल है। लोग धनतेसर की खरीदारी का मौका मानो चूकना ही नहीं चाह रहे । ऐसे लग रहा है आज तो सामान की खरीदारी मुफ्त में हो रही है। सजी धजी दुकानें और हर दुकान पर खास सजावट। किसी ने फूलों की तो किसी ने छोटे बल्‍ब की चारों ओर अगरबस्‍ती और फूलों की खुशबू। मिठाई की महक के साथ मिलकर उत्‍सवी माहौल की उमंग और बढ़ा दी। बच्‍चों और महिलाओं के चेहरे पर चमक दिखाई दी। पुरुष पीछे कहां थे सभी। पर, किसकी जेब पर उनकी पत्नियां कितना डाका डालेगी, यह अनुमान उनके चेहरे से जरा मुश्किल है।
अनु के ख्‍याल हावी होने लगे, वह भी तो स्‍त्री है, स्‍त्री सुलभ चंचलता, चमक, लज्‍जा सभी गुण है उसमें, लेकिन आज यहां इन सबको भूलकर चेहरे पर कठोरता का आवरण चिपकाए बिना किसी खास खुशी का भाव प्रकट किए उसे बस यहां खड़े रहना है। अपनी ताजी प्रेस की हुई फिट खाकी वर्दी में उन सुंदर परिधानों में धंसी हंसती लड़कियों से कैसे तुलना कर सकती थी, बेहतर था कि वो उन्‍हें देखे ही नहीं। तकरीबन पांच किलोमीटर लंबी सड़क पर उसके साथ छह लोग ड्यूटी पर थे। दो वे लड़कियां और शेष पुरुष।
पुरुषों में तीन शादीशुदा और एक बैचलर था।
पर उसकी पहचान उनसे ज्‍यादा न थी। न ही वो लड़कों से चहककर बात करने वालों में से थी। ऐसे में बतरस की संभावना भी नहीं थी। उसने सोचा ‘अगर इस शोरगुल को भगवान म्‍यूट भी कर दे तो उसके मन का शोर कितना है, यह पता चल जाए।’ अनु दिखने में रंग गोरा आंखें बड़ी और कद काठी सामान्‍य वाली लड़की थी। घूमते फिरते लोगों की निगाहें खुद पर पड़ते देखती तो अपनी सुंदरता का अहसास उसे अवश्‍य होता। शाम ढल गई। वह और उसकी खाकी वर्दी धूल से बुरी तरह भर चुके थे। उसे लगा दिवाली के बाकी बचे दो दिन भी पहाड़ की तरह भारी रहेंगे।
ड्यूटी खत्‍म होते ही वह बच्‍चों की तरह घर की ओर दौड़ पड़ी। घर पहुंचकर मुंह हाथ धोकर खाने पर टूट पड़ी वह, उस समय बाजार के वे पकवान भी फीके लग रहे थे, जो उसे ड्यूटी के समय ललचा रहे थे। तभी उसकी नन्‍हीं भानजी प्रिया, जो अपनी मां और नानी के साथ बड़े बाजार गई थी, आई और उसे देखते ही उसकी गोद में आ बैठी। उसे मालूम था कि आज उसकी मौसी की ड्यूटी शहर के सबसे बड़े बाजार में लगी थी। उसने जाते समय अपनी फरमाइश कर दी थी कि अनु मौसी को आते हुए उसके लिए छोटी छोटी कसीदे वाली जूतियां लेकर आनी है। पर अनु नहीं खरीद पाई थी। वह उसे कैसे समझाती कि हर दुकान पर भारी भीड़ थी। बीच में घुसकर जूतियां खरीदना उसे ठीक नहीं लगा। वह तो वर्दी में थी, ऐसे में कुछ खरीदना यानी लोगों को अपनी ओर प्रश्‍नचिह्न भरी नजरों से घूरना सहन करना पड़ता, जो उसे सुहाता नहीं। परिणाम यह हुआ कि उसकी प्‍यारी प्रिया उससे रूठकर चली गई।
दिनभर की रेलमपेल के बाद प्रिया के रूठने से शाम तक बची उमंग भी जाती रही। अगले दिन रूप चतुर्दशी के दिन भी वही दस्‍तूर जारी रहा। उसकी दोनों बहिनें और मां को जाते समय उसने सुना कि आज हमें बैठकर उबटन लगाना है। और फिर ब्‍यूटी पार्लर जाना है। मगर उसे कुछ नहीं कहा गया। क्‍योंकि वे जानते थे कि वह तो घर में उपलब्‍ध ही नहीं होगी, कहना फिजूल है।
फिर वही धुली वर्दी पहनकर वह चल पड़ी। आज उसकी ड्यूटी सोबती गेट पर थी। जो कि शहर का हृदय स्‍थल है। फिर से वही छह सिपाही। पर यहां का एक मैचिंग सेंटर चूडि़यों के लिए प्रसिद्ध है। जो कि अनु को बड़ा आकर्षित करता है। उसी के पास उन सबका जमावड़ा लगा। महिलाएं और युवतियां अपनी पसंद की चूडि़यां खरीदती मनभावन लग रही थी। अनु बड़े मनोयोग से उन्‍हें देख रही थी कि अचानक देखा कि साथ में खड़े साथी कांस्‍टेबलों में जो कुंवारा था, उसे एकटक देख रहा था। जब अनु की नजर उससे टकराई तो वह मुस्‍कुराया। अनु को उसका देखना बुरा तो लगा, लेकिन तहजीब के चलते उसने हौले से मुस्‍कुराकर जवाब दिया। भीड़ भरे बाजार में दिन कब बीता पता ही नहीं चला। शाम तक धूल के गुबार ने सोबती गेट को ढक दिया था। अब तो दीए वाली कुम्‍हारन भी रेट कम करने लगी थी। दो के छह, दो के छह। जबकि कल तक वह दो रुपए के तीन के हिसाब से बेच रही थी। उसका मन किया कि दीपक खरीद ले, पर...
रूई, बूर, खील बताशे, लक्ष्‍मी पूजन सामग्री, इत्र और रंगोली सजावट जैसे पता नहीं कितने सामान थे वहां, ऐसे लग रहा था जैसे सालभर इन सामानों सहित इन्‍हें बेचने वाले शीत निष्क्रियता में रहे हों। आज ही बाहर आकर जोर जोर से माल बेचकर अपनी उपस्थिति बता रहे हैं।
अंधेरा होते ही ड्यूटी खत्‍म। वह घर की ओर रवाना हुई। रास्‍ते में छोटी छोटी लड़कियों को अपने घर के बाहर गोरधन का चौरस और स्‍वास्तिक बनाते देख उसे अपने बचपन की याद हो आई, जब वह शाम के समय अपनी बड़ी दीदी के साथ बैठकर उसे बनाने में मदद करती थी। घर की दहलीज पर उसे बनाने से पहले बड़ी दीदी उस जगह को पहले पानी से धोती फिर गोबर से लीपकर सूखने को छोड़ देती। उसके बाद लाल और सफेद मिट्टी का चौकोर डि‍ब्‍बा सा बनाकर उसके बीच में स्‍वास्तिक और बाहर की ओर सफेद मिट्टी के किनारे किनारे सुंदर बेलें बनाते हुए गीत गाती। दोनों छोटी बहनें उनके पीछे पीछे चलते रहते कि कब दीदी हमें भी ऐसा करने को कहे। उस समय दीदी का हर आदेश दौड़कर पूरा करतीं।
लो घर आ गया, पता ही नहीं चला, अनु बुदबुदाई।
मां ने एक नजर अनु पर डाली फिर अपने काम में लग गई। कल तो दीवाली थी ना, और मां को बहुत काम था। इसलिए अनु ने मां से चाय का भी नहीं कहा। खुद ही हाथ मुंह धोकर चाय बनाई और टीवी के आगे बैठ गई। ये टीवी वाले भी इतना त्‍योहार-त्‍योहार चिल्‍लाते क्‍यों चिल्‍लाते हैं, सोच रही थी। उन्‍हें देखकर बाजार में सड़क किनारे बैठे रेहड़ी वालों की चिल्‍ल-पौं याद आ गई। रात ढल चुकी थी।
‘ये पांच दीपक बाहर रख आ अनु।’ अचानक मां की आवाज सुनाई दी।
सोफे पर ही टीवी देखते देखते कब आंख लग गई पता ही नहीं चला। बाहर सभी के घर रोशनी और चहल पहल देखकर उसे कुछ अच्‍छा लगा। वापस आकर खाना खा अनु सो गई। उसे पता था कल दीवाली थी। दूसरों की तरह उसके दिमाग में न तो कोई योजना थी, ना ही उमंग, बस ड्यूटी।
सुबह मशीन की तरह पहुंच गई महात्‍मा गांधी मार्ग। जहां उसे चौकस रहना था। आज दीवाली के कारण सड़कें साफ थी और इस बाजार में वाहनों की आवाजाही बंद थी। तो दिन में भी कानों को आराम महसूस हुआ। लोग पैदल चल रहे थे, भीड़ बहुत थी। कई सटकर निकले तो कुछ उनमें से दूरी रखते हुए तेजी से आ जा रहे थे। बूर प्रसाद वालों की चिल्‍ल पौं बढ़ गई। आज का शांत वातावरण उसे अच्‍छा महसूस हुआ। खड़े खड़े याद कर रही थी, उन दिनों की जब वह एकदम अलमस्‍त और निश्चिंत होकर घूमा करती थी। आज जिम्‍मेदारी से खड़े होने पर उसे वही दिन याद हो आए...
‘मेरा नाम नवीन है’, सुनकर चौंकी।
देखा सामने उसका साथी, जो कुंवारा था, खड़ा था। अनु ने धीरे से हैलो कहा। औपचारिक बातचीत में नवीन ने बताया कि वह दूसरे राज्‍य से यहां आकर रह रहा है।
‘ओह। यानी आपका यहां कोई नहीं। त्‍योहार के दिन भी आप यहां रहेंगे।’
‘आप तो जानती हैं नौकरी की वि‍वशता।’
अनु को नवीन से सहानुभूति हो आई। वह तो अब तक अपनी ही उधेड़बुन में खोई थी। उसे लगता था, वह अकेली है अपनी नौकरीनुमा बोझ को झेलने के लिए, लेकिन यहां तो...
तभी उसने देखा कि नवीन ने अपने पीछे से हाथ आगे किया। उसके हाथ में एक सुंदर पैकेट था। उसने अनुप्रिया को वह पैकेट थमा दिया। झिझकते हुए वह पैकेट थाम लिया। फिर उस्‍तुकता से अनु ने बॉक्‍स का किनारा खोलकर देखा, उसमें वही सुंदर कांच की चूडि़यां थी, जिन्‍हें वह कल ललचाई नजरों से देख रही थी और नवीन ने उसे देख लिया था।
अनु को लगा जैसे कितने दिनों बाद उसे भी किसी ने महसूस कराया कि वह भी उत्‍साह और उमंग की हकदार है। कुछ कहना चाह रही थी, कि तभी सामने से अपने ऑफिसर को आते देख दोनों किनारे हट गए।
ऑफिसर ने पास आकर कहा – ‘आज आप छह लोगों की ड्यूटी यहीं खत्‍म होती है, अपने अपने घर जा सकते हैं, यहां दूसरे सिपाहियों को तैनात किया गया है।’
सुनकर जैसे अनु की तो बांछें खिल आई। एक बारगी उसने नवीन की ओर देखा, उसके चेहरे पर निर्लिप्‍त भाव थे। छुट्टी पाकर भी वह क्‍या करेगा, सोच रहा होगा। अनु चूडि़यां पर्स में डालकर टैक्‍सी की बाट जोहने लगी।
टैक्‍सी पर चढ़ने से पहले अनु ने नवीन को शाम को लक्ष्‍मी पूजन के लिए अपने घर आने का न्‍यौता दे दिया। छोटे बच्‍चे की तरह फटाफट अपने घर की ओर दौड़ पड़ी। घर पहुंचकर देखा कि मां और पिताजी शाम की पूजा की तैयारी में व्‍यस्‍त थे। भांजी मोहल्‍ले के बच्‍चों के साथ रंग-बिरंगी फुलझडि़यां छोड़ रही है और दीदी रंगोली बना रही है। उसे देखकर सभी खुश हुए। वह भी तुरंत नहाकर नए कपड़े पहनकर बाहर आई।
दीदी से कहा – ‘मैं भी मेहंदी लगाउंगी।’
दीदी ने उसे मुस्‍कुराकर देखा। मानो समझ गई हो, कि आज की शाम वह भी उमंग भरी दीवाली मनाने वाली है।

3 comments:

सूर्यकान्त गुप्ता said...

"आज की शाम वह भी उमंग भरी दीवाली मनाने वाली है" पुलिस की नौकरी ...बनाती है व्यक्ति को सख्त

ड्यूटी में कहाँ मिल पाता है, खुद के लिए वक्त

खासकर महिला होने के नाते, ख्वाहिशें दब जाती हैं

मगर परवर दिगार देख रहा है,

इनके जीवन में भी खुशियाँ जरूर आती हैं ...

त्योहारों के मनाने के ढंग ..बाजार का दृश्य,

घर में परिवार के प्रत्येक सदस्यों की विशेषताएं

ख़ास कर भांजी की ....सभी का सुंदर चित्रण

दीपावली की अग्रिम शुभकामनाओं सहित ...सादर!

rita gupta said...

बहुत अच्छी प्रस्तुतीकरण । एक नॊकरीपेशा वह भी पुलिस की दिनचर्या ऒर मनस्थिति का सुन्दर चित्रण ।

rita gupta said...

बहुत अच्छी प्रस्तुतीकरण । एक नॊकरीपेशा वह भी पुलिस की दिनचर्या ऒर मनस्थिति का सुन्दर चित्रण ।