Friday

कविता

एक कविता कहना चाहती हूं

जताना चाहती हूं अपनी कविता से

कि कैसे बनती है कविता

इतनी माथापच्‍ची के बाद निकली ये

कविता जाने कितनों को आएगी ना- 'पसंद'

पर खैर एक स्‍वादिष्‍ट कविता की

रेसिपी कौन नहीं पढ़ना चाहेगा

इस कविता प्रतियोगिता में मेरा दिल

कवियित्री की उपमा से विभूषित भी होना चाहेगा

चलो अब बात हम कविता की करते हैं

अन्‍यथा न लें तो इस साहित्‍य की चर्चा ही करते हैं

अंदर से महसूस करने पर ही

पता चलता है बेचारी कविता कितनों में बंटी है

कभी 'जीवन' की तो कभी 'प्रेम' की

शेष बची तो 'दर्द' में गंठी है

दर्द की कविता की तो हालत खराब है यहां

साहित्‍य के ऐसे-ऐसे अनछुए पहलु को छुआ है

कि हर जगह दर्द है वहां

आश्‍चर्य तो तब होता है जब ये

कविता के साथ 'भावना' भी रोने लगती है

पूछने पर पता चलता है भावना

तो कविता के साथ जन्‍मजात बंधी है

कविता 'गूंगी' और भावना 'अंधी' है

जीवन और प्रेम की कविता की कथा

फिर कभी सुनाउंगी

अगली बार कविता के साथ

एक सिरदर्द की गोली लेकर आउंगी...

6 comments:

दिलीप said...

hasya bhi kuch sandesh bhi bhai waah...

Udan Tashtari said...

बहुत बढ़िया मिश्रण...मजा आया.

M VERMA said...

पूछने पर पता चलता है भावना
तो कविता के साथ जन्‍मजात बंधी है

अगली बार जब सुनाईएगा तो सुनेंगे

nilesh mathur said...

आज आपकी कई रचनाएँ पढ़ी, आपकी रचनाओं में एक अलग अंदाज है, पढ़कर अच्छा लगा, बहुत शुभकामना!

संजय भास्कर said...

बहुत सुंदर और उत्तम भाव लिए हुए.... खूबसूरत रचना......

Sanjay kumar
http://sanjaybhaskar.blogspot.com

डा. महाराज सिंह परिहार said...

bahut achchhi kavita ke liye dhanybad.

Dr Maharaj Singh parihar
www.vichar-bigul.blogspot.com