Thursday

मैं और मेरी तन्‍हाई

मैं और मेरी तन्‍हाई अकसर बात करते हैं

कौन ज्‍यादा तन्‍हा है मैं या मेरी तन्‍हाई

जवाब आता है पर बहुत देर से।

क्‍योंकि अकसर हम बात करते रहते हैं

सवाल यह नहीं है कि

पहले जवाब कौन देता है

सवाल तो यह भी नहीं है कि

देर से जवाब क्‍यों आता है

तो फिर सवाल क्‍या था

ही घंटों बात करते हैं हम

मैं और मेरी तन्‍हाई अकसर बात करते हैं

जवाब आता है जम्‍हाई

4 comments:

दिलीप said...

waah...bahut khoob....

http://dilkikalam-dileep.blogspot.com/

M VERMA said...

मुझे तो कोई तन्हा नज़र नही आ रहा है.
सुन्दर रचना

संजय भास्कर said...

हर रंग को आपने बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों में पिरोया है, बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

Udan Tashtari said...

यह एक अलग अंदाज रहा..बढ़िया!